Zameer

Aawaz-e-Zameer

आवाज़-ए-ज़मीर

दर्शन Philosophy

वर्णसंकरता (सामाजिक वर्ण व्यवस्था में वेद और पुराणों की भूमिका)

वर्णसंकरता (सामाजिक वर्ण व्यवस्था में वेद और पुराणों की भूमिका) आज तीन वर्ष पुरानी एक पोस्ट ने वर्णसंकर शब्द की याद दिला दी। वैसे इस विषय पर विचार और मंथन तो वर्ष 1992 से ही प्रारंभ हो गया था जो वर्ष 2012 में प्रकाशित मेरी पुस्तक ‘नाथ सम्प्रदाय इतिहास एवं

दर्शन Philosophy

क्या लिखना चाह

क्या लिखना चाह  क्या लिखना चाह रहा था और क्या लिख दिया। अब भी आखिरी दो शे’र छोड दें तो …..सैलाब दर सैलाब से ये गुमां हो रहा है।।दरिया अपनी औक़ात से उर्यां हो रहा है।।नबी के प्यारों की प्यास तो ना मिटा सका,अब अपनी नाकामी पे पशेमां हो रहा